Purnima Vashikaran Mantra Totke


कोई भी साधक जाने पूर्णिमा के दिन वशीकरण मंत्र टोटके कैसे करें? हमारे शास्त्रों से लेकर लगभग हर जगह ही पुर्णिमा के दिन को बड़ा खास माना जाता है। इसका अपना ही एक अलग महत्व है, जिस रात चंद्रमा अपने पूर्ण रूप मे नज़र आता है। बहुत से लोग इस दिन व्रत रखते है या अलग-अलग पूजा अनुसठान करते है। इसी प्रकार से बहुत से लोग इस दिन वशीकरण उपाय भी करते है, क्यूंकी वशीकरण क्रियाओं के लिए भी यह दिन महत्वपूर्ण माना जाता है। तो चलिए ऐसे कौन-कौन से वशीकरण उपाय है जिनहे आप कर सकते है।

Purnima Vashikaran Mantra Totke

शरद पुर्णिमा के दिन यह उपाय करे। जिस दिन शुबह उठकर स्नान कर ले और एक साफ आसन पर बैठ जाए। यहाँ आपको केसर और शंख की ज़रूरत पड़ेगी। तो सबसे पहले तो केसर को घिसकर उसका लेप बना ले और इस लेप की मदद से शंख के ऊपर स्वास्तिक का चिन्ह बना दे। यहाँ आपको माँ लक्ष्मी के इस मंत्र का 108 बार जप करना है। मंत्र है: “ॐ श्री ॐ ह्नवी ॐ महालक्ष्मी नमः”। साथ मे उन्हे चावल अर्पित करें। मंत्र जप पूर्ण हो जाने के बाद सभी चावल को जमा करके एक लाल रंग के कपड़े मे रख दे। अब इस कपड़े को घर की तिजोरी मे रख दे। साथ मे उस शंख को अपने पास संभालकर रख ले। ऐसा करके माँ लक्ष्मी की कृपा बनी रहती है।

धन से जुड़ी समस्या से निजात पाने के लिए एक अन्य मंत्र विधि भी है। मंत्र है: “ओम एं क्लीं सोमाय नमः”। यदि आपका पैसा किसी दूसरे व्यक्ति के पास फंसा हुआ है, जो कई बार याद दिलाने पर भी आपको वापस नहीं करता या फिर किसी भी कारण से आपका धन कही भी अटका है तो इस उपाय से आप उसे वापस पा सकते है। आपको बस करना इतना है कि पुर्णिमा की रात को कच्चे दूध में चीनी और चावल मिला दे और उसे चंद्रमा को आर्ग दे दे। साथ ही ऊपर बताए गए मंत्र का 108 बार जप करे। जल्द माँ लक्ष्मी की कृपा से आपकी धन हानी सही हो जाएगी।

बहुत से लोग ऐसे होते है जो पूर्णिमा या अमावस्या के दिन को एक अजीब से बैचनी महसूस करते है। जिसका कारण वो खुद नहीं जानते। जीवन मे सब कुछ सही होते हुए भी कई बार ऐसा उन्हे ऐसा महसूस होता है। अगर पूर्णिमा या अमावस्या की रात खासतौर पर ऐसा होता है तो संभावना होती है कि किसिने आप पर जादू-टोना कर दिया होगा। ऐसे मे आप गाय का घी, गुग्गल, लौबान और पीली सरसो ले ले। इन्हे मिलाकर धूप बना ले और सूरज ढल जाने के बाद गाय के उपले पर उसे जला दे। ऐसा करके आप जादू-टोटके के प्रभाव को विफल कर सकते है।

हमारे शास्त्रों मे पुर्णिमा के दिन, माँ लक्ष्मी व पीपल के पेड़ का एक साथ बड़ा अच्छा सहयोग बताया गया है। यानि यदि कोई वक़्त शुबह जल्दी उठकर स्नान करके पीपल के पेड़ पर कुछ मीठा चढ़ाने के साथ मीठा जल अर्पित करता है व साथ मे पेड़ को धूपबत्ती दिखाता है तो इससे माँ लक्ष्मी की कृपा बनी रहती है।

माँ लक्ष्मी के अलावा यदि आप पुर्णिमा के दिन भगवान शिव की उपासना करते है तो खास कृपा होती है। अगर आप शिवलिंग पर इस दिन कच्चा दूध,बेलपत्र, शहद, शमीपत्र और फल चढ़ाते है तो भगवान शिव की आपके ऊपर कृपा बनी रहती है।

यदि पति-पत्नी के बीच रिश्ता अच्छा नहीं चल रहा। दोनों के बीच हर वक़्त कलह रहती है। तो ऐसे मे वो प्रत्येक पूर्णिमा को चंद्रमा को दूध का अर्घ्र दे। ऐसा करके दोनों अपने रिश्ते को मधुर बना सकते है। एक अन्य बात का भी ध्यान दोनों रखे कि पुर्णिमा या अमावस्या की रात शरारिक संबंध न बनाए। साथ ही पुर्णिमा की रात गर्भवती महिलाओं के लिए भी विशेष रूप से लाभकारी होती है। यदि गर्भवती महिला चंद्रमा की रोशीनी मे कुछ वक़्त बिताती है तो नाभि पर पड़ने वाली रोशीनी से उसका गर्भ पुष्ट होता है। बात सिर्फ गर्भ के फायदे तक ही सीमित नहीं है। चंद्रमा की रोशीनी मे वो शक्ति है जिसका अनुमान लगाना आम व्यक्ति के बस मे नहीं और ना ही इसका पूर्ण ज्ञान आम लोगों के पास होता है। यदि व्यक्ति पुर्णिमा की रात कुछ वक़्त के लिए चंद्रमा की रोशीनी को लगातार देखता है, तो इससे उसके आँखों की रोशीनी भी तेज़ होती है।

यदि कोई स्त्री अपने पति को वश मे करना चाहती है तो वो यह उपाय कर सकती है। सबसे पहले तो पीपल के 2 पत्ते ले। एक पत्ते पर काजल से अपने पति का नाम लिख दे और पेड़ के पास ही उसे उल्टा करके रख दे। ऊपर से कोई पत्थर रख दे ताकि वो उड़े नहीं। फिर दूसरे पत्ते पर भी उसका नाम लिखे, लेकिन सिदूर से। अब इस दूसरे पत्ते को अपने घर की छत पर उल्टा करके रख आए। ध्यान दे यह विधि आने वाली पुर्णिमा तक करे व आखिरी मे सारे पत्ते जमा करके उन्हे कही एक खाली जगह गड्ढे मे दबा आए। इस उपाय को करते वक़्त बस स्मरण करते रहे की आपका पति आपके वश मे हो जाये। आप खुद इस विधि का असर देख पाएँगी।

तो देखा आपने कैसे माँ लक्ष्मी को प्रसन्न करने से लेकर भगवान शिव को खुश करने व अपनी बाकी मुरादों को पूरा करने मे पुर्णिमा का दिन कितना महत्वपूर्ण होता है। साथ ही

चंद्रमा की रोशीनी का ना सिर्फ एक अध्यात्मिक पहलू होता है, बल्कि यह हमारे तन-मन के लिए भी बेहद फायदेमंद है। इसके अलावा इस दिन की जाने वाली पूजा-प्रार्थना का अपना अलग ही महत्व होता है।

कोई भी जाने पूर्णिमा के दिन वशीकरण मंत्र टोटके कैसे करें? और इस दिन वशीकरण कर किसी भी जरुरुआत को पूरा किया जा सकता है| पूर्णिमा पर वशीकरण करने से मनचाही सफलता प्राप्त होती है और सभी कार्य पूर्ण होते है| किसी भी उपाय को प्रयोग में लेने से पहले अवश्य गुरु जी से सलाह लेवे और जीवन में हर मुकाम में कामयाबी पाए|

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s